संशयवादी मुस्लिम –

एक ऐसे दौर में- जहाँ चरित्रहीन, तर्कहीन और विनाशकारी कपट लोगों को इतनी विश्वासप्रद लगती हैं के वो उन मिथ्याओं को सच स्वीकार कर लेते हैं, उनको दिल से लगाते हैं और उनके लिए लड़ते हैं- एक संशयवादी होना कहीं बेहतर है विश्वासी होने से।

Translation of This post

संशयवादी मुस्लिम -एक ऐसे दौर में- जहाँ चरित्रहीन, तर्कहीन और विनाशकारी कपट लोगों को इतनी विश्वासप्रद लगती हैं के वो उन…

Posted by Daniel Haqiqatjou – Hindi on Monday, August 8, 2016

Some more explanation of the term:

आखिर एक संशयवादी मुस्लिम होने का क्या अर्थ है?

इब्न अब्बास नबी (स०) की एक हदीस का वर्णन करते हैं। एक व्यक्ति उसे सुन के परेशान हो जाता है और उसपे आपत्ति जताने लगता है। उसका ये रवैय्या देखके इब्न अब्बास ये टिप्पणी करते हैं: “आखिर वो क्या चीज़ है जिससे वे डरते हैं? वे स्वकरते हैं उन चीज़ों को जो स्पष्ट हैं, पर जब बात अस्पष्ट चीज़ों पर आती हैं तो वे तहस-नहस हो जाते हैं।”

एक पश्चिमी संशयवादी की कार्यप्रणाली होती है सवाल करना और आपत्ति जताना हर उस चीज़ पर जो उसके समझ के मुताबिक़ न हो। यह इसलिए क्योंकि उसे ये ग़लतफ़हमी है की उसका दिमाग़ सच को परखने का पैमाना हो सकता है।
जबकि, एक मुस्लिम संशयवादी खुद पर सवाल करता है और अपने अंदर कि उन चीज़ों पे आपत्ति जताता है जो इस्लाम के मुताबिक़ नहीं होतीं क्योंकि वो ये तथ्य जानता है की उसका दिमाग़ सीमित है, और सिर्फ इस्लाम ही सच को जांचने का सही पैमाना हो सकता है।

Translation of text taken from about section of Haqiqatjou’s official facebook page in 2016.

Translated by: Md Adil Hussain

आखिर एक संशयवादी मुस्लिम होने का क्या अर्थ है?इब्न अब्बास नबी (स०) की एक हदीस का वर्णन करते हैं। एक व्यक्ति उसे सुन के…

Posted by Daniel Haqiqatjou – Hindi on Tuesday, August 9, 2016

Md Adil Hussain

View all posts