सेक्युलरिज़्म का खोखलापन

सेक्युलरिज़्म इंसान को ज़िन्दगी के असल मक़सद और दूर-दराज़ नतीजों से गुमराह करके, सिर्फ मुख़्तसर मुद्दत के लिए बनाई जा रही तरकीबों में उलझाए...

शुबहात और दज्जाल

हमारे लिए हैरतअंगेज हदीस: रसूलल्लाह ﷺ ने फरमाया : "जो दज्जाल के मुताल्लिक़ सुने के वो ज़ाहिर हो चुका है तो वह उस्से दूर ही...

इल्हाद : अक़्ल पे मबनी या जज़्बात पे ?

मुल्हिद (नास्तिक) अक्सर ये दावा करते हैं कि लोग बुनियादी तौर पे ख़ुदा को जज़्बाती वजहों से मानते हैं, सोच समझ कर नहीं। मुल्हिद,...

सेक्युलर इस्लाम बनाम इस्लामी सेक्युलरिज़्म

कुछ लोग ऐसा सोचते हैं की इस्लाम को सेक्युलर बनाने की ज़रूरत है। इस्लाम को मौजूदा दौर में फिट बैठाने के लिए इसके के...

तरक्की पसंद मुसलमानों का दीन

अल्लाह से डरो - "अवाम को डराने और अपना ग़ुलाम बनाने की धर्म के ठेकेदारों की चाल।" हया करो और सही लिबास पहनो - "बस...

The Modernist Kalima [Hindi]

फैशनपरस्त (जिद्दत-पसंद) मुसलमानों का कलमा: "मेरे ख़्याल से अल्लाह के सिवा कोई ईबादत के लायक़ नहीं है, पर देखिए आप बुरा मत मानिएगा ये बस...

झंडा जलाना और मज़ीद मज़हबी आज़ादी के तज़ाद

झंडा जलाना और मज़ीद तज़ाद। अगर आप हिंदुस्तानी रूढ़िवादियों की बातों पर ग़ौर करें - के जिस तरह वो "झंडे" और "संविधान" की बात करते...

Who Is the Real “Free Thinker”? [Hindi]

असल में “आज़ाद ख़याल" कौन है? एक नास्तिक (बेदीन मुल्हिद), जो: 1) सेक्युलर निज़ाम में रहता है, 2) ऐसे स्कूल में जाता है जिसमे पाठ्यक्रम का आधार...

ज़्यादा बुरा क्या है? – जल्दी शादी या ज़िना

ज़्यादा बुरा क्या है? 1. मुस्लिम वालिदैन जवान बच्चों को जल्दी शादी करने के लिए बढ़ावा दें - उनकी तरबियत कर के ज़हीन और संजीदा...